रचनात्मकता : बच्चों के सम्पूर्ण विकास का एक अनिवार्य हिस्सा होने के 3 कारण

कैम्ब्रिज अंग्रेजी शब्दकोश, रचनात्मकता (creativity) को मूल और असामान्य विचारों के उत्पादन या उपयोग करने की क्षमता के रूप में परिभाषित करता है। यदि आप उन लोगों को देखें जिन्हें अत्यधिक सफल माना जाता है, तो आप उन्हें आम तौर पर सामान्य लोगों से अलग समझेंगे । ज्यादातर लोग जिसे “अलग” समझते हैं, वह वास्तव में “अलग” नहीं, बल्कि “रचनात्मक” है। कला, विज्ञान या व्यवसाय, किसी भी क्षेत्र में, आज की दुनिया में रचनात्मक दृष्टिकोण का अत्यधिक महत्व है। स्टीव जॉब्स और एलन मस्क जैसे लोगों को जनता अपना आदर्श मानती है।

यह एक आम धारणा है कि स्टीव जॉब्स और एलन मस्क जैसे सफल लोग “जन्मजात रचनात्मक” होते हैं। यह कुछ व्यक्तियों के लिए सही हो सकता है, लेकिन रचनात्मकता केवल “रचनात्मक-टाईप” लोगों के लिए नहीं होती। सोची-समझी और समयोचित मार्गदर्शन के माध्यम से, माता-पिता धीरे-धीरे अपने बच्चों में रचनात्मक क्षमता को विकसित कर सकते हैं।

इस लेख में हम आपको अपने बच्चे की रचनात्मकता को बढ़ाने के 3 आसान तरीके बताने जा रहे हैं:

  • बच्चे प्रॉब्लम सॉल्वर बनेंगे :

रचनात्मकता हमें समस्याओं को खुले दिमाग से देखने के लिए प्रेरित करती है और इससे कई अभिनव समाधान निकल कर आते हैं । कुछ सरल रचनात्मक गतिविधियों से बच्चे आसानी से इस दृष्टिकोण को सीख सकते हैं और इससे वे अपने जीवन के कई क्षेत्रों में सफलता पाएंगे।

उदाहरण के लिए, आप अपने बच्चे को चित्रांकन और रंगाई (ड्राइंग और पेंटिंग) करने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं। मानव आकृति बनाना सीखते समय आपका बच्चा यह सीखेगा कि मानव की जटिल आकृति को सरल ज्यामितीय (जीअमेट्रिक) आकृतियों में कैसे तोड़ा जाता है। जटिल समस्याओं को छोटे-छोटे हल करने योग्य घटकों में तोड़ने का रचनात्मक दृष्टिकोण, आईआईटी (IIT) और आईआईएम (IIM) जैसे विशिष्ट शैक्षणिक संस्थानों के कठिन माने जाने वाले परीक्षाओं के लिए अनिवार्य है। वे अपने छात्रों में रचनात्मक सोच की अपेक्षा रखते हैं क्योंकि वे प्रतिभा का एक समूह बनाना चाहते हैं जो दुनिया के सामने आने वाली सबसे कठिन समस्याओं को हल कर सके। बचपन से ही रचनात्मक गतिविधियों में संलग्न होना आपके बच्चे के उज्ज्वल करियर की संभावनाएं भी बढ़ाता है।

pexels-cottonbro-3778868

 

रचनात्मक होना कई उतार-चढ़ाव और असफलता के उच्च जोखिम के साथ आता है। जब कोई कलाकार किसी मूर्ति का निर्माण शुरू करता है, तो इस बात की काफी संभावना होती है कि मूर्ति का अंतिम स्वरूप हू-बहू वैसा ही हो जैसा की मूर्तिकार ने बनाने के पहले सोचा था। इसके बावजूद भी मूर्तिकार लगातार मूर्तियां बनाता है और समय के साथ अपने कौशल में सुधार करता है।

करीब ऐसा ही हर सीखने की प्रक्रिया में होता है। जब भी कोई बच्चा अपने दम पर कुछ बनाना शुरू करता है, इस बनाने की प्रक्रिया से ही वो बच्चा अपनी क्षमता के प्रति आत्मविश्वास अनुभूति करता है। ऐसे कार्यों से बच्चे यह समझ पाएंगे कि कुछ भी हासिल करने में समय और मेहनत, दोनों का बराबर योगदान है। इस प्रकार वे अंतिम परिणामों की अत्यधिक चिंता किए बिना प्रक्रिया की सराहना करना सीखेंगे। वयस्कों के रूप में, यह रवैया उन्हें कॉलेज की प्रवेश परीक्षा या नौकरी के लिए आवेदन करने की तैयारी जैसी प्रतिस्पर्धी और तनावपूर्ण स्थितियों से निपटने में मदद करेगा।

रचनात्मक अभिव्यक्ति आज के युवाओं में आमतौर पर देखे जाने वाले क्रोध या चिंता जैसी नकारात्मक भावनाओं को दिशा देने का एक बहुत प्रभावी तरीका है।

उदाहरण के लिए, यदि आपका बच्चा लॉकडाउन की स्थिति के कारण कर्कश महसूस कर रहा है, तो आप उसे टीवी के सामने बैठाने के बजाय एक रचनात्मक रुचि विकसित करने में उसकी मदद कर सकते हैं। अगर उसे बॉलीवुड फिल्में देखने में मजा आता है, तो आप उसे बॉलीवुड डांस स्टाइल सीखने का प्रोत्साहन दे सकते हैं। आपको उसे किसी औपचारिक नृत्य कक्षाओं में नामांकित करने की आवश्यकता नहीं है। आज यूट्यूब पर बहुत सारे निःशुल्क वीडियो उपलब्ध हैं जो आपके बच्चे को कुछ आसान से डांस स्टेप्स सीखने में मदद कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, आप यूट्यूब पर G M Dance Centre का यह वीडियो दिखा सकते हैं। इसके अलावा, आप अपने बच्चे का आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए उनके प्रदर्शन की रिकॉर्डिंग करने में भी उनकी मदद कर सकते हैं।

pexels-rodnae-productions-7104394

 

  • बच्चे वैकल्पिक करियर खोजने में समर्थ बनेंगे:

वे दिन गए जब लोग वित्तीय सुरक्षा की तलाश में पारंपरिक करियर पथ का अनुसरण करते थे। आज, अधिक से अधिक युवा ऐसे करियर का अनुसरण कर रहे हैं जो उनमें कोई उद्देश्य की भावना जागृत करने में मदद करें। पारंपरिक करियर (डेस्क जॉब) अक्सर इस भावना को जागृत करने में बुरी तरह विफल होते हैं। अपने बच्चे की रचनात्मकता को बढ़ाकर आप उन्हें उनके जीवन में विभिन्न प्रकार के वैकल्पिक करियर चुनने में अधिक सक्षम बना सकते हैं।

कला, संगीत या यहां तक ​​कि खेल जैसे रचनात्मक क्षेत्रों में, जितनी छोटी उम्र से आरंभ करेंगे उतना ही ज्यादा बच्चों को फायदा मिलेगा । अपने बच्चे के साथ चर्चा करके और इन गतिविधियों में शामिल होने के दौरान उनकी प्रतिक्रिया देखकर उनकी रुचियों का आकलन करने का प्रयास करें।

उदाहरण के लिए, यदि आपका बच्चा कार्टून देखते हुए बहुत खुश होता है, तो उसे स्केचिंग करने के लिए प्रोत्साहित करें। यदि आप देखते हैं कि वो इस प्रक्रिया को आनंदित होकर कर रहा है, तो एक कदम आगे बढ़कर उन्हें कॉमिक्स बनाने की कला सीखने में मदद करें। इस तरह आप उन्हें मीडिया और एनिमेशन जैसे विभिन्न रचनात्मक क्षेत्रों का पता लगाने में मदद कर सकते हैं।

pexels-cottonbro-6156891
गणित और विज्ञान की तरह ही रचनात्मकता का विकास संपूर्ण शिक्षा का एक बहुत ही आवश्यक हिस्सा है। दुर्भाग्य से, आज के समय में भी, अधिकांश बच्चों के पास ललित कला, संगीत, नृत्य और अन्य रचनात्मक विषयों में बहुत कम शिक्षा मिलती है। अपने बच्चे को सर्वश्रेष्ठ देने के अपने प्रयास में, उनकी शिक्षा को पारंपरिक दृष्टिकोण तक सीमित न रखने का प्रयास करें। उन्हें अपनी सभी प्रतिभाओं को तलाशने का मौका दें। यह उनके लिए एक अनमोल तोहफा बन सकता है।

LEAD में बच्चों को अकादमिक चारदीवारी के बाहर सोचना सिखाया जाता है। नयी तकनीक से लैस हमारे शिक्षक हर बच्चे का समग्र विकास सुनिश्चित करते हैं। LEAD Summer Camp, LEAD Premier League, और LEAD MasterClass जैसे हमारे प्रयासों से हम हर बच्चे को उसके आगे के सुनहरे भविष्य के लिए तैयार करते हैं।

 

LEAD बच्चों को भविष्य के लिए तैयार करने में मदद कर रहा है। अपने बच्चे का LEAD संचालित स्कूल में नामांकन कराने के लिएः अभी एडमिशन फॉर्म भरें

About the author

admin

More from this author

रचनात्मकता : बच्चों के सम्पूर्ण विकास का एक अनिवार्य हिस्सा होने के 3 कारण

कैम्creativity) को मूल और असामान्य विचारों के उत्पादन या उपयोग करने की क्षमता के रू

Know More

Admissions Open

Find a LEAD powered school for your child

whatsapp